ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्कू सरकार गांव के द्वार धाम नहीं काम लेकर जाएगी

Spread the love

शिमला विमल शर्मा…….. ..मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह मंत्रिमंडल की बैठक शुक्रवार को होनी निश्चित हुई है राज्य सरकार के इस साल के बजट से पहले यह बैठक महत्वपूर्ण मानी जा रही है मंत्रिमंडल की इस बैठक में जनकल्याण के साथ-साथ सरकार गांव के द्वार’ कार्यक्रम को  गंभीरता के साथ लागू हो रहा है। इस पर भी एक रिव्यू बैठक होनी निश्चित हुई है हाल ही में मुख्यमंत्री सहित मंत्रियों के ग्रामीण क्षेत्र के दौैरों को लेकर जनता में व्यावहारिक तौर पर इसका क्या असर हुआ है इसका भी आकलन किया जाएगा ताकि आने वाले समय में ऐसी व्यवस्था हो सके की विशेष का ग्रामीण जनता को अपने छोटे-छोटे कार्य करवाने के लिए राजधानी शिमला में सचिवालय के चक्कर में काटने पड़े लोगों के काम गांव में हो सके और उनके कार्यों की जानकारी उनका समय-समय पर दी जाए  मुख्यमंत्री स्वंय सरकार गांव के द्वार कार्यक्रम के तहत गांवों में जा रहे हैं, जनता की समस्याएं गंभीरता के साथ सुन रहे हैं और उनका समाधान भी कर रहे हैं। जनता कार्यक्रम में धाम खाने नहीं आ रही है, बल्कि मुख्यमंत्री सुक्खू पर विश्वास जताकर अपनी समस्याओं के समाधान के लिए आ रही है। जिससे साबित होता है कि मुख्यमंत्री सुक्खू के व्यवस्था परिवर्तन की नीति पर जनता विश्वास कर रही है। मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने गांवों की समस्याओं को समझने, ग्रामीण अर्थव्यवस्था का मजबूत करने के लिए गांवो का विकास करने के लिए सरकार गांव के द्वार कार्यक्रम की शुरुआत की है। जिसमें मुख्यमंत्री सहित सरकार के सभी मंत्री, कांग्रेस पार्टी के विधायक और अधिकारी वर्ग गांव में जनता के बीच जा रहे हैं। जनता की समस्याओं को सुन भी रहे हैं और जनता के कल्याण के लिए चलाई जा रही सरकारी योजनाओं की जानकारी भी जनता को दे रहे हैं। जिससे प्रदेश के गांव-गांव के लोग सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकें और सरकारी योजनाओं का लाभ सभी को मिले। सरकार गांव के द्वार कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री सुक्खू ने स्वयं कमान संभाली है। जिसके तहत मुख्यमंत्री ने हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के ज्वालामुखी देहरा, बड़सर, धर्मपुर, ऊना जिले की गगरेट और चिंतपूर्णी क्षेत्र के गांव का दौरा किया। वहां पर हजारों लोगों की समस्याएं सुनी और समाधान करने का भरोसा दिलाया। मुख्यमंत्री कहते हैं कि अब फाइलें दफ्तरों में नहीं घूमेंगी, सीधे मुख्यमंत्री कार्यालय से ही समस्याओं का समाधान होगा। सरकार गांव के द्वार कार्यक्रम के दौरान जनता के द्वारा दिए गए हर आवेदन और शिकायत की फाइल मुख्यमंत्री कार्यालय शिमला आती है और यहां से समाधान करने की प्रक्रिया होती है। इसी तरह सरकार के सभी मंत्री गांवों में जा रहे हैं और जनता की समस्याओं का समाधान कर रहे हैं। सरकार गांव के द्वार कार्यक्रम की शुरुआत बहुत ही बेहतर ढंग से हुई है। जिससे लगता है कि गांव की लोगों को इसका फायदा होगा और मुख्यमंत्री सुक्खू की आम आदमी के कल्याण करने की सोच कामयाब होगी। पूर्व भाजपा सरकार के समय जनता की समस्याओं के समाधान के लिए जनमंच का आयोजन किया जाता था, जिसमें जनता को खाने के लिए धाम का प्रबंध सरकारी खर्च से होता था। तब तत्कालीन सरकार पर आरोप लगते रहे कि जनमंच में समस्याओं का समाधान नहीं होता बल्कि जनता धाम खाने के लिए आ रही है। अब सुक्खू सरकार के समय व्यवस्था परिवर्तन के तहत धाम की नहीं काम की बात हो रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post मुख्यमंत्री ने बरोटीवाला में अग्नि पीड़ितों का हाल पूछा
Next post ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू सरकार में प्रशासनिक फेरबदल
Close