कांग्रेस मुख्यालय दस जनपथ से हिमाचल कांग्रेस का नया खाका तैयार

Spread the love
सांसद प्रतिभा सिंह हो सकती हैं प्रचार समिति की प्रमुख
हिमाचल कांग्रेस के पद पर सुखविंदर सिंह का नाम सबसे आगे
राजा वीरभद्र सिंह के नाम पर होगा 2022 का विधानसभा चुनाव
शिमला, विमल शर्मा।
कांग्रेस मुख्यालय 10 जनपद से हिमाचल प्रदेश कांग्रेस पार्टी में भारी फेरबदल का खाका तैयार हो गया है। इसी वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी ने कमर कस ली है। मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस आलाकमान पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय राजा वीरभद्र सिंह के नाम पर 2022 का विधानसभा चुनाव भुनाना चाहती है। कांग्रेेेस आलाकमान हिमाचल कांग्रेस के अध्यक्ष पद और प्रतिपक्ष नेता के साथ- साथ हिमाचल प्रचार समिति का जिम्मा भी सौंपने की तैयारी में है सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मंडी की सांसद प्रतिभा सिंह को प्रचार समिति की कमान सौंपी जा सकती है ताकि विधानसभा चुनावों में पूरे प्रदेश में राजा वीरभद्र सिंह के प्रति लोगों की सहानुभूति को वोटों में तब्दील किया जा सके इसके साथ साथ गुटों में बटी हिमाचल कांग्रेस के नेताओं को भी कैसे स्थापित किया जाए उसका भी गणित तैयार कर लिया गया है।
सूत्र बताते हैं कि हिमाचल कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर सबसे ऊपर विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू ठाकुर कौल सिंह ठाकुर रामलाल हर्षवर्धन चौहान और हर्ष महाजन का नाम प्रमुखता से है इसके साथ साथ प्रतिपक्ष के नेता के पद पर मुकेश अग्निहोत्री की तैनाती यथावत रह सकती है क्योंकि मुकेश अग्निहोत्री दोनों गुटों में एक सहमति बना सकते हैं। मुकेश अग्निहोत्री दोनों गुटों में एक सहमति बना सकते हैं ताकि कांग्रेस पार्टी एकजुट रह सके भले ही हाल ही के दिनों में मुकेश अग्निहोत्री स्वयं अपने लिए ही गोटिया बैठा रहे थे और उनके संपर्क दोनों गुटों के साथ बराबर चल रहे थे लेकिन आलाकमान के सर्वे के मुताबिक सांसद प्रतिभा सिंह ही प्रचार समिति की कमान संभालने के लिए एक उपयुक्त नाम है जबकि अन्य कांग्रेसी नेताओं का जनाधार केवल अपने विधानसभा क्षेत्र तक ही सीमित है बताया जाता है कि सुखविंदर सिंह सुक्खू का अध्यक्ष पद के लिए दावेदारी इसलिए सक्षम मानी जा रही है कि उनका राजनीतिक बायोडाटा अन्य दावेदारों से मजबूत माना जा रहा है भले ही ठाकुर कौल सिंह ठाकुर रामलाल हर्ष महाजन और आशा कुमारी का तजुर्बा पार्टी के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है लेकिन इन नेताओं का पूरे प्रदेश में ऐसा कोई जबरदस्त जनाधार नहीं है कि वह किसी भी उम्मीदवार को विजय बना सके जबकि पूर्व में विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष रहते हुए युवाओं को हर जिला में एक टीम तैयार की और पूरे प्रदेश में सभी जिलों में कांग्रेस पार्टी को इसका फायदा भी मिला बहरहाल जो भी है कांग्रेस आलाकमान पूर्व में पंजाब की हार को सामने रखते हुए ऐसा कोई फैसला नहीं लेना चाहती जिसका असर हिमाचल में भी देखने को मिले इसलिए कांग्रेस आलाकमान ने पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की सहानुभूति जिसका फायदा बीते लोकसभा चुनाव में सांसद प्रतिभा सिंह को मंडी में मिला आलाकमान यह भी तय कर रहा है कि अगर कांग्रेश मैं गुट बंदी समाप्त नहीं हुई तो सांसद प्रतिभा सिंह को ही आगे लाया जाए और उनके नाम पर सब में सहमति बनाई जा सके जानकारी तो यहां तक मिली है कि कांग्रेस पार्टी सांसद प्रतिभा सिंह को ही अगले मुख्यमंत्री के तौर पर प्रोजेक्ट कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post शहरी विकास मंत्री ने राज्यपाल से भेंट की
Next post प्रदेश के दूर-दराज क्षेत्रों में आयोजित होंगी रेडक्रॉस की गतिविधियांः राज्यपाल
Close